breaking news New

अंतरिक्ष से सरहदों की रखवाली करेगी इसरो की आंख, लॉन्‍च होने जा रहा है कार्टोसेट-3

अंतरिक्ष से सरहदों की रखवाली करेगी इसरो की आंख, लॉन्‍च होने जा रहा है कार्टोसेट-3
अंतरिक्ष से भारत की सरहदों की निगहबानी के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) तीन अर्थ ऑब्जर्वेशन या सर्विलांस सैटेलाइट लांच करने जा रहा है। इसमें से एक सेटेलाइट कार्टोसेट-3 25 नवंबर को लांच किया जाएगा, जबकि दो दिसंबर को लांच किए जाने हैं। कार्टोसेट-3 अंतरिक्ष में 509 किलोमीटर दूर 97.5 डिग्री के झुकाव के साथ कक्षा में स्थापित किया जाएगा।  

इन सेटेलाइटों के साथ साथ दो दर्जन विदेशी नैनो उपग्रहों और माइक्रो सेटेलाइटों को तीन पीएसएलवी रॉकेटों के जरिए लॉन्‍च किया जाएगा। पीएसएलवी सी-47 (PSLV C-4) रॉकेट को श्रीहरिकोटा से 25 नवंबर को नौ बजकर 28 मिनट पर लॉन्‍च किया जाएगा, जो अपने साथ थर्ड जनरेशन के अर्थ इमेजिंग सैटेलाइट कार्टोसेट-3 और अमेरिका के 13 कॉमर्शियल सैटेलाइटों लेकर जाएगा। 

इसके बाद इसरो दो और सर्विलांस सैटेलाइटों की लॉन्‍च‍िंग करेगा। रीसैट-2 बीआर1 (Risat-2BR1) और रीसैट 2 बीआर 2 (Risat-2BR2)  को पीएसएलवी सी-48 (PSLV C-48) और पीएसएलवी सी-49 (PSLV C-49) की मदद से दिसंबर में श्रीहरिकोटा से लांच किया जाना है। जानकारों का मानना है कि भारतीय सरहदों की निगेहबानी के लिए ये तीनों सैटेलाइट (Risat-2BR1, Risat-2BR2, Cartosat 3) अंतरिक्ष में भारत की आंख के तौर पर काम करेंगे।