breaking news New

मनरेगा, आजीविका मिशन, आवास योजना और पीएमजीएसवाई में उत्कृष्ट कार्यों के लिए छत्तीसगढ़ को मिले 22 पुरस्कार

मनरेगा, आजीविका मिशन, आवास योजना और पीएमजीएसवाई में उत्कृष्ट कार्यों के लिए छत्तीसगढ़ को मिले 22 पुरस्कार

पंचायत एवं ग्रामीण विकास की विभिन्न योजनाओं में उत्कृष्ट कार्यों के लिए छत्तीसगढ़ को राष्ट्रीय स्तर पर 22 पुरस्कार मिले हैं। प्रदेश को प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) की विभिन्न श्रेणियों में नौ, मनेरगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना) में सात, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) में पांच और प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए एक पुरस्कार से नवाजा गया है। इनमें राज्य स्तर पर दिए जाने वाले 13, जिला स्तर पर दिए जाने वाले तीन, विकासखंड को एक और ग्राम पंचायतों को मिले चार पुरस्कार शामिल हैं।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव ने इस उपलब्धि पर प्रदेशवासियों व विभागीय अमले को बधाई और शुभकामना दी है। केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा नई दिल्ली के राष्ट्रीय कृषि विज्ञान परिसर, पूसा में आज आयोजित पुरस्कार समारोह में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर और ग्रामीण विकास राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने छत्तीसगढ़ को ये पुरस्कार दिए। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के प्रमुख सचिव श्री सुब्रत साहू ने राज्य की ओर से पुरस्कार ग्रहण किया।

मनरेगा में सात पुरस्कार

छत्तीसगढ़ को मनरेगा के बेहतरीन क्रियान्वयन के लिए सात श्रेणियों में पुरस्कृत किया गया। प्रदेश जियो-मनरेगा इनीशिएटिव्ह के क्रियान्वयन में देशभर में दूसरा, कार्यपूर्णता में दूसरा और सुशासन (Good Governance) इनीशिएटिव्ह के क्रियान्वयन में भी दूसरे स्थान पर रहा। योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए मुंगेली जिले को भी पुरस्कार मिला। वहां के कलेक्टर श्री सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे ने यह पुरस्कार ग्रहण किया।

जियो-मनरेगा इनीशिएटिव्ह के तहत जी.आई.एस. संपत्ति पर्यवेक्षण क्रियान्वयन (GIS Asset Supervision Implementation) में जांजगीर-चांपा जिले का पामगढ़ विकासखंड देशभर में दूसरे स्थान पर रहा। व्यक्तिगत श्रेणी में दिए जाने वाले इस पुरस्कार के लिए चयनित पामगढ़ के कार्यक्रम अधिकारी श्री सौरभ शुक्ला ने पुरस्कार ग्रहण किया। वाटर हार्वेस्टिंग हेतु संरचना निर्माण के लिए कोरिया जिले के पोड़ी ग्राम पंचायत (विकासखंड सोनहत) को देशभर में दूसरा तथा मनरेगा कार्यों के क्रियान्वयन में उत्कृष्टता के लिए बालोद जिले के धोतीमटोला (विकासखंड डौंडी) को तीसरा पुरस्कार मिला।