breaking news New

फ़ातेशाह मज़ार व मस्जिद ट्रस्ट ,रायपुर के पास सवा सौ दुकान फिर भी हर माह हो रहा लाखों का नुकसान, 7 सदस्यी आब्जर्वर / पर्यवेक्षक दल गठित

फ़ातेशाह मज़ार व मस्जिद ट्रस्ट ,रायपुर के पास सवा सौ दुकान फिर भी हर माह हो रहा लाखों का नुकसान, 7 सदस्यी आब्जर्वर / पर्यवेक्षक दल गठित

राजधानी रायपुर के टिकरापारा में स्थित हज़रत फ़ातेहशाह मज़ार व मस्जिद ट्रस्ट कमेटी, पुलिस लाईन, टिकरापारा, रायपुर के स्वामित्व में लगभग 125 दुकानें संचालित है परंतु किरायेदारी के कई वर्षों से चले आ रहे न्यायालयीन प्रकरणों के विवाद के चलते वक्फ सम्पत्ति को हर माह लाखों रूपयों का नुकसान हो रहा है। 

इसी विवाद के निराकरण के लिए छ.ग.राज्य वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सलाम रिजवी के द्वारा कार्यालय, छ.ग.राज्य वक्फ बोर्ड में बैठक आहुत की गई जिसमें उक्त संस्था के किरायेदारों/कब्जेधारीयों के उत्पन्न विवाद के निराकरण, वक्फ सम्पत्ति की जर्जर स्थिति में सुधार, वक्फ सम्पत्ति की आय में वृद्धि के संबंध में एवं उक्त वक्फ सम्पत्ति से संबंधित समस्त विवाद के निराकरण के संबंध में चर्चा की गई। 

चर्चा में यह पाया गया कि उक्त वक्फ सम्पत्ति जिसमें लगभग 100 से अधिक दुकाने होने के बाद भी आज दिनांक को उसकी आय बहुत ही कम है जिसका मुख्य कारण उक्त वक्फ सम्पत्ति की दुकानों पर काबिज किरायेदार/कब्जेधारी एवं प्रबंध कमेटी में आपस में बहुत अधिक विवाद है जिससे शहर के मध्य स्थित वक्फ सम्पत्ति का लाभ समाज को प्राप्त होना चाहिये वो नहीं मिल रहा है। उक्त वक्फ सम्पत्ति की जर्जर अवस्था होती जा रही है जिससे वक्फ सम्पत्ति का विकास नहीं हो पा रहा है।  

उपरोक्त परिस्थिति को देखते हुए यह निर्णय लिया गया और उक्त वक्फ सम्पत्ति के समस्त विवाद के निराकरण हेतु 7 सदस्यीय आॅब्जर्वर/पर्यवेक्षक दल का गठन किया गया है जो उक्त वक्फ सम्पत्ति से संबंधित समस्त विवादों का निपटारा करेंगे:-

1. सैयद इनामुल्लाह शाह  (रिटायर्ड जिला न्यायाधीश)

2. अब्दुल हमीद हयात  (वरिष्ठ कांगे्रस नेता)

3. सैयद जाकिर अली (अधिवक्ता)

4. एस.के.फरहान (अधिवक्ता)

5. हाजी नईम अखतर (वरिष्ठ कांगे्रस नेता) 

6. सैयद सादिक अली (अधिवक्ता)

7. अकरम सिद्दीक़ी (चार्टर्ड एकाउंटेंट)

यह ओब्जर्वर/पर्यवेक्षक दल हज़रत फातेहशाह मजार व मस्जिद ट्रस्ट कमेटी, पुलिस लाईन टिकरापारा रायपुर के अंतर्गत आने वाली समस्त वक्फ सम्पत्ति की सुरक्षा, व्यवस्था, विकास, निर्माण, समस्त दस्तावेजों का अवलोकन, उक्त वक्फ सम्पत्ति के किरायेदारों/कब्जेधारियों से संबंधित विवाद का निराकरण जिसमें दुकानों पर काबिज लोगों से नवीन किराया अनुबंध का निष्पादन कर प्रतिमाह किराया राशि का निर्धारण, किरायेदारों से सम्बंधित जो प्रकरण विभिन्न न्यायालयों में आज दिनांक तक लम्बित है या निराकृत हो चुके है उसके सम्बंध में उचित कार्यवाही, जो दुकाने आज दिनांक तक खाली पड़ी हुई हैं ।

उन्हें नवीन किरायेदारों को आबंटित करने जैसे समस्त कार्यों को तीव्र गति से सम्पादित करेगा और वक्फ सम्पत्ति की आय में वृद्धि एवं वक्फ सम्पत्ति की जर्जर अवस्था को सुधारने के सम्बंध में कार्य करेगा। यह समस्त कार्यवाही बोर्ड के अनुमोदन से की जायेगी। आॅब्जर्वर दल के सहयोग हेतु वक्फ बोर्ड से मो.तारिक अशरफी को को ओडीनेटर नियुक्त किया गया है।

इस बैठक में छ.ग.राज्य वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सलाम रिज़वी, सैयद अनामुल्लाह शाह  (रिटायर्ड जिला एवं सत्र न्यायाधीश), सैयद फैसल रिज़वी (माननीय सदस्य, छ.ग.राज्य वक्फ बोर्ड), अब्दुल हमीद हयात (वरिष्ठ कंाग्रेस नेता), सैयद जाकिर अली (अधिवक्ता), जनाब सादिक अली (अधिवक्ता), एस.के.फरहान (अधिवक्ता), नईम अख्तर (वरिष्ठ कांगे्रस नेता), अकरम सिद्दीकी (चार्टर्ड एकाउंटेंट),  हाजी मीर कादिर अली (सदस्य, छ.ग.राज्य वक्फ बोर्ड एवं मुतवल्ली हजरत फातेहशाह मजार व मस्जिद ट्रस्ट), छ.ग.राज्य वक्फ बोर्ड के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ.एस.ए.फारूकी, मो.रऊफ साहब व छ.ग.राज्य वक्फ बोर्ड के कर्मचारीगण उपस्थित थे।