breaking news New

3 साल तक नहीं बढ़ाई जाएगी, नवा रायपुर में जमीन की कीमते

3 साल तक नहीं बढ़ाई जाएगी, नवा रायपुर में जमीन की कीमते

करीब एक दशक से सूने पड़े नवा रायपुर में धीमी बसाहट है, इसमें तेजी लाने के लिए प्रदेश सरकार ने आवासीय प्लाट के रेट में तीन साल तक वृद्धि नहीं करने का फैसला लिया है। हालांकि यह अब भी अधिक (1800 से 3000 रुपए वर्गफीट) माना जाता है।

लेकिन सरकारी सूत्रों का मानना है कि तीन साल तक वृद्धि नहीं होने की वजह से यह रेट भी सामान्य हो जाएगा। प्रदेश सरकार के निर्देश के बाद नवा रायपुर विकास प्राधिकरण (एनआरडीए) के बोर्ड ने जमीन के रेट नहीं बढ़ाने पर मुहर लगा दी है। तय हुअा है कि जब बसाहट बढ़ने लगेगी और नवा रायपुर की प्रापर्टी में लोगों का रुझान नजर अाने लगेगा, तब भले ही रेट बढ़ाया जाएगा।

लेकिन यह फैसला भी तीन साल बाद ही होगा। अफसरों ने साफ किया कि कॉमर्शियल भूखंड की दर बदल सकती है। यही नहीं, अावासीय प्लाट में भी निवेशकों और आम लोगों के बीच जमीन आबंटन की प्रक्रिया अलग-अलग करने की तैयारी है। इसके लिए नए सिरे से नियम बनाए जा सकते हैं। 

चार सेक्टरों का लेआउट पहले

चार सेक्टरों के लेअाउट पर काम शुरू कर दिया है। इनमें सेक्टर-17 में पहली बार छोटे प्लाट निकालना भी शामिल है, जबकि यह सेक्टर केवल आईएएस अफसरों की रिहाइश के लिए बनाया गया है। इसी तरह, सेक्टर-30 में अधिकतर छोटे-छोटे प्लाट निकाले जाएंगे। सेंट्रल बिजनेस डिस्ट्रीक (सीबीडी) से लगे सेक्टर-15 में भी प्लाट बेचे जाएंगे। सेक्टर-12 में प्लाट काटकर बेचे गए हैं, लेकिन बड़े प्लाट बच गए हैं। इन्हें भी छोटे प्लाट में तोड़ा जा रहा है।