breaking news New

निर्भया केस : लंबे इंतजार के बाद मिला इंसाफ, चारों दोषियों को दी गई फांसी

निर्भया केस :  लंबे इंतजार के बाद मिला इंसाफ, चारों दोषियों को दी गई फांसी

निर्भया के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के दोषियों विनय कुमार शर्मा, पवन कुमार गुप्ता, मुकेश सिंहऔर अक्षय कुमार सिंह को आज शुक्रवार सुबह ठीक 5:30 बजे फांसी दे दी गई। इस मौके पर जेल प्रशासन से जुड़े 50 से अधिकारी मौजूद रहे। इस दौरान वहां मौजूद जेल अधिकारियों ने ऐसी पुख्ता व्यवस्था की थी, जिसके चलते दोषियों को चीखने-चिल्लाने का कोई मौका नहीं मिला।

इससे पहले शुक्रवार तड़के 3:15 बजे ही निर्भया के दोषियों को उनके सेल में जगा दिया था। दैनिक क्रियाकलाप के बाद उन्हें नहलाया गया। इसके बाद उनकी इच्छा के अनुसार उन्हें चाय के साथ हल्का नाश्ता दिया गया। इसके बाद उन्हें सेल से बाहर फांसी घर की ओर ले जाने की प्रक्रिया शुरू की गई।

भारत में कैदी को सुबह ही फांसी देने का प्रावधान है, लेकिन फांसी का समय महीने के हिसाब से अलग-अलग होता है। ज्यादातर सुबह 6 से 7 बजे के बीच फांसी दी जाती है। निर्भया मामले में कोर्ट ने डेथ वांरट जारी करते हुए सुबह 5:30 बजे फांसी का वक्त मुकर्रर किया है। इसके पीछे तर्क दिया जाता है कि जहां जेल में बंद अन्य कैदी सो रहे होते हैं वहीं सुबह फांसी पर चढ़ने वालों को पूरे दिन का इंतजार नहीं करना पड़ता, इसलिए मुंह अंधेरे फांसी दी जाती है।