breaking news New

उद्धव ने सोनिया को फोन किया, सरकार बनाने के लिए मांगा समर्थन, शिवसेना नेता राज्यपाल से मिलने के लिए हुए रवाना

उद्धव ने सोनिया को फोन किया, सरकार बनाने के लिए मांगा समर्थन,  शिवसेना नेता राज्यपाल से मिलने के लिए  हुए रवाना

कुछ ही देर में महाराष्ट्र में सरकार गठन की तस्वीर साफ हो सकती है। न्यूज एजेंसी को सूत्रों ने बताया कि शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को फोन किया और उनसे समर्थन मांगा। इसके बाद ही आदित्य ठाकरे, एकनाथ शिंदे और अन्य शिवसेना नेता राज्यपाल से मुलाकात करने के लिए रवाना हुए। ऐसे में माना जा रहा है कि राकांपा के साथ-साथ कांग्रेस ने भी शिवसेना को समर्थन के लिए हामी भर दी है। हालांकि, अभी तक इस बारे में कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

दिल्ली में कांग्रेस की बैठक चल रही है। सोनिया ने जयपुर के होटल में ठहरे महाराष्ट्र के कुछ कांग्रेस विधायकों से फोन पर बात की। उधर, राकांपा ने कहा कि हमारे विधायक शिवसेना को समर्थन देने के पक्ष में हैं, लेकिन कांग्रेस बैठक के बाद जो फैसला लेगी.. वही हमें मंजूर होगा।

भाजपा-शिवसेना के बीच 1989 में गठबंधन हुआ था। 1990 का महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव दोनों दलों ने साथ लड़ा था। 2014 विधानसभा चुनाव से पहले दोनों दल अलग हो गए थे। दोनों दलों ने चुनाव भी अलग लड़ा। हालांकि, बाद में सरकार में दोनों साथ रहे। भाजपा-शिवसेना 30 साल में दूसरी बार अलग हो रहे हैं।

झूठे माहौल में सरकार में क्यों रहें- सावंत

इससे पहले केंद्र में शिवसेना के एकमात्र मंत्री अरविंद सावंत ने इस्तीफा दे दिया। इसके बाद उन्होंने कहा- शिवसेना का पक्ष सच्चाई है। इतने झूठे माहौल में दिल्ली सरकार में क्यों रहे और इसीलिए मैं केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा दे रहा हूं। भाजपा शिवसेना के बीच सीटों का बंटवारा 50:50 प्रतिशत तय था। लेकिन नतीजे आने के बाद भाजपा ने कहा कि ऐसे किसी करार पर बात नहीं हुई। अब केंद्र में काम नहीं कर सकता हूं।