breaking news New

मध्यप्रदेश : सोशल मीडिया पर इस्तीफों का अंबार, हकीकत में सिर्फ एक ने दिया

मध्यप्रदेश : सोशल मीडिया पर इस्तीफों का अंबार, हकीकत में सिर्फ एक ने दिया

पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में सदस्यता लेने के साथ ही सोशल मीडिया पर समर्थकों के इस्तीफों की बाढ़ आ गई है। ऐसा लगा कि आधी कांग्रेस खाली हो गई। जबकि हकीकत में अब तक सिर्फ एक जिला प्रवक्ता का ही इस्तीफा शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष को मिला है। उधर, भाजपा में भी अब तक किसी कांग्रेसी की सदस्यता नहीं हो सकी है। हालांकि कांग्रेस कार्यकर्ता फोन करके जरूर पूछ रहे हैं कि सदस्यता लेने का नियम क्या है। इस पर उनको बताया गया है कि वह मिस्ड कॉल देकर भाजपा के सदस्य बन सकते हैं।

फेसबुक, ट्विटर पर कई लोगों ने पोस्‍ट किए इस्तीफे

सिंधिया की भाजपा में ज्वाइनिंग के साथ ही ग्वालियर चंबल अंचल में इस्तीफों का दौर शुरू हो गया। लोगों ने फेसबुक, ट्विटर पर अपने इस्तीफे पोस्ट करके सिंधिया के प्रति अपनी आस्था जताई है। दिलचस्प बात ये है कि मुरैना में राकेश मावई सहित कुछ ऐसे नेता भी हैं, जिन्होंने पहले तो इस्तीफा देने की बात कही, लेकिन अगले ही दिन मुकर गए। इस्तीफों की हकीकत जानी की तो पता जला कि सोशल मीडिया पर तो बहुत कुछ है, लेकिन हकीकत में इक्का--दुक्का कार्यकर्ताओं ने ही इस्तीफे दिए हैं। ग्वालियर में भी केवल जिला प्रवक्ता केसी सिंह राजपूत ने इस्तीफा दिया है।

छत्री पर खिंचाया फोटो, इस्तीफा अब तक नहीं पहुंचा

महिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष कमलेश कौरव सहित कई महिला कार्यकर्ता छत्री पहुंची थी। यहां सभी ने इस्तीफा देने की बात कही थी और फोटो भी खिंचवाए थे। इसके अलावा पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल ने भी इस्तीफे की बात कही थी। हालांकि इनमें से किसी का भी लिखित में इस्तीफा जिलाअध्यक्ष को नहीं मिला है।