breaking news New

ख्वाजा साहब की दरगाह 31 तक आमजन के लिए बंद, रस्मों के लिए 20 लाेगाें काे मिलेगी अनुमति

ख्वाजा साहब की दरगाह 31 तक आमजन के लिए बंद, रस्मों के लिए 20 लाेगाें काे मिलेगी अनुमति

अजमेर : कोरोना संक्रमण रोकने के लिए जिला प्रशासन ने बड़ा कदम उठाते हुए ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह को आगामी 31 मार्च तक आमजन के लिए बंद रखने का फैसला किया है। यह निर्णय शुक्रवार को दरगाह कमेटी एवं अंजुमन के पदाधिकारियों के साथ हुई बैठक में किया गया। 

800 साल के इतिहास में पहली बार दरगाह 11 दिन के लिए आमजन के लिए बंद किया गया है।

जिला कलेक्टर विश्व माेहन शर्मा ने बताया कि सार्वजनिक स्थलाें पर भीड़ भाड़ को रोकने के लिए राज्य सरकार के निर्देशानुसार पूरे जिले में धारा 144 लगाई गई है। उसी के तहत दरगाह को बंद करने पर विचार विमर्श कर यह निर्णय किया है। इस दौरान दरगाह की आवश्यक धार्मिक रस्में पूरी की जाती रहेगी, इसके लिए अधिकतम 20 व्यक्तियों को दरगाह में जाने की अनुमति पुलिस विभाग द्वारा दी जाएगी। 

जिला कलेक्टर ने बताया कि केवल दरगाह का निजाम गेट ही खुला रहेगा।

*800 साल के इतिहास में पहली बार दरगाह 11 दिन के लिए आमजन के लिए बंद*

जिला प्रशासन सहित खादिमाें की संस्था अंजुमन व दरगाह कमेटी की संयुक्त बैठक से पहले दरगाह में जुमे के माैके पर अदा की गई नमाज में भारी संख्या में लाेग शामिल हुए। जुमे की नमाज में भीड़ काे देखते हुए ही गुरुवार काे अपील की गई थी कि लाेग अपने घराें पर पूजा पाठ व नमाज अदा करें। धार्मिक स्थलाें पर एकत्रित नहीं हाे ताकि संक्रमण से बचा जा सके। लेकिन इस अपील का काेई असर नहीं दिखा अाैर हालात यह हुए कि नमाजियाें की सफे दरगाह परिसर के बाहर तक अा गईं।

दरगाह कमेटी व अंजुमन के साथ मिलकर दरगाह काे बंद किए जाने पर विचार विमर्श किया ताकि अब इस तरह की भीड़भाड़ दरगाह में नहीं हाे। दरगाह में देश व विदेश से बड़ी संख्या में जायरीन अाते हैं।